Sunday, November 1, 2009

ज़माना बदल गया !

अब घोडें कम दीखते है । फिल्मों में भी नहीं । उनका भी एक ज़माना था । शान से दौड़ते थे । ....पर अब क्या काम ?
बेचारें । रहेगें कहाँ ? हमने तो जगह छोड़ी ही नहीं ।

1 comment:

  1. Aapke jeevan ke rang khush numaa hon, ye dua hai..

    ReplyDelete