Monday, November 16, 2009

क्या दिखावा है !

वाह !
एकदम रंगीन
इतने पारंगत
नक़ल भी छिप गया
इसे कहते है ...कलाकारी

सच !
हम एक रंगमंच पर
नाच रहे
अपनी अपनी
कला को बेचकर
क्या दिखावा है !

8 comments:

  1. "Bikhare Sitare" pe tippanee ke liye tahe dilse shukriya!
    Bade dinon baad aapke blog pe aa paayi hun..kuchh halat aise rahe,ki, likhna padhna sab band ho gaya!

    Kala ko kayi baar majbooran bechna padta hai...ghoda ghaans se dostee karega,to, khayega kya, haina?

    ReplyDelete
  2. BAHUT ACHHA LAGA AAPKE BLOG PE AAKAR ..SABHI LEKH PADI MAI ...KAM SHABDO ME BAHUT BARI-BARI SACHAIYO KO SAMANE LAYE HO ...BAHUT ACHHA LEKH ..

    ReplyDelete
  3. इतने पारंगत
    नक़ल भी छिप गया ..

    AJ KAL YE HI HOTA HAI ... NAKAL ASAL SE BHI TEZ HAI ... SATY LIKHA HAI ..

    ReplyDelete
  4. Sahi Kaha aapne Aajkal dikhawa ka to jamana hai.. Jo jo nahi hai wah dekh raha hai ...
    Shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  5. हम एक रंगमंच पर
    नाच रहे
    अपनी अपनी
    कला को बेचकर
    क्या दिखावा है
    वाह वाह आपने बिल्कुल सही कहा है ! आजके ज़माने में तो सब दिखावा ही करते हैं ! आपकी इस पंक्तियों को पढ़कर मुझे आनंद फ़िल्म में राजेश खन्ना की बात याद आ गई "ज़िन्दगी एक रंगमंच है और हम सब उस रंगमंच की कठपुतलियां हैं !"

    ReplyDelete
  6. सुंदर कविता..... साधुवाद..

    ReplyDelete