Sunday, November 1, 2009

सब हंस रहे है ...

हंसों
खूब हंसों
सब हंस रहे है
तुम पीछे हो !
अपने
बेगाने
नए
पुराने
सब हंस रहे है
और
तुम पीछे हो !

8 comments:

  1. जी हँसना तो चाहते है ,पर ये जालिम ज़माना हंसने नहीं देता.........

    ReplyDelete
  2. Blog par aane ka bahut shukriya...
    bahut achhci bhavon se bhari hain aapki archnaye..padkar achcha laga.

    ReplyDelete
  3. भाई ' दर्द' के लेबल क्यों ? और किसी पर नहीं, खुद पर तो हंसा जा ही सकता है .खुद के लिए ही सही .चलो हंसते हैं .

    ReplyDelete
  4. hanso hanso , ye saugaat bhagwaan ne sirf insaan ko hi di hai. isliye dard men bhi hanso.

    ReplyDelete
  5. हर इंसान को हमेशा हँसी खुशी रहना चाहिए चाहे कितना भी दर्द क्यूँ न हो! ख़ुद हँसते रहो और लोगों को भी हंसाओ!

    ReplyDelete
  6. lलो जी हम भी आ गये आपके साथ हंसने। इसी तरह हंसते हंसाते रहो आशीर्वाद्

    ReplyDelete
  7. Hanste hanste badhai swikar karen.

    ReplyDelete