Friday, April 24, 2009

कीचड़

सड़क पर इस कदर कीचड़ बिछी हुई है ।

हर किसी का पाँव घुटनों तक सना है ।


यह सही है की घुटनों तक कीचड़ सना है .... भ्रष्टाचार का बोलबाला है । पर किसी न किसी को तो कीचड़ साफ़ करना ही पड़ेगा और वह हम ही क्यों न हो ....

9 comments:

  1. bilkul sahee baat kahee hai mark saahab shuraat khud se hee kee jaaye to behtar hai..

    ReplyDelete
  2. नमस्कार,
    इसे आप हमारी टिप्पणी समझें या फिर स्वार्थ। यह एक रचनात्मक ब्लाग शब्दकार के लिए किया जा रहा प्रचार है। इस बहाने आपकी लेखन क्षमता से भी परिचित हो सके। हम आपसे आशा करते हैं कि आप इस बात को अन्यथा नहीं लेंगे कि हमने आपकी पोस्ट पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं की।
    आपसे अनुरोध है कि आप एक बार रचनात्मक ब्लाग शब्दकार को देखे। यदि आपको ऐसा लगे कि इस ब्लाग में अपनी रचनायें प्रकाशित कर सहयोग प्रदान करना चाहिए तो आप अवश्य ही रचनायें प्रेषित करें। आपके ऐसा करने से हमें असीम प्रसन्नता होगी तथा जो कदम अकेले उठाया है उसे आप सब लोगों का सहयोग मिलने से बल मिलेगा साथ ही हमें भी प्रोत्साहन प्राप्त होगा। रचनायें आप shabdkar@gmail.com पर भेजिएगा।
    सहयोग करने के लिए अग्रिम आभार।
    कुमारेन्द्र सिंह सेंगर
    शब्दकार
    रायटोक्रेट कुमारेन्द्र

    ReplyDelete
  3. or kicheed me kon rahna chahega...har koee nikal ke panv dho lega ese saaf koee nahi karega..

    ReplyDelete
  4. मार्क जी बात तो आपने ठीक कही किसी न किसी को तो शुरुआत करनी पड़ेगी

    ReplyDelete
  5. sunaa hai ki jise tairnaa nahi aataa agar woh bhee paani main ulte seedhe haath paanv maarne lagtaa hai to kinaare tak pahuch jaataa hai.isiliye jhallevicharaanusaar bharstaachaar ke keechad main bhee haath paanv chalaane ke saath saath thoraa saa deemaag [kasam se bilkul thoraa saa]ka pryog utsaah vardhak nateeje degaa.mark ji jhalle ki RAI bhee aapse miltee hai .aap abhee jawaan ho photo main haath paanv bhee lambe dikh rahe hain I A S ki tayaaree kar rahe ho so deemaag bhee dher hogaa isi liye shuroo ho jaao jhalla aapke saath hai.yakin karo HUM DO HEE CHALENGEJAANIBE MANZIL AUR KAARWAAN TO BANE HEE BANE.JHALLI GALLAN MAIN AANE KE LIYE DHANYAAVAAD.

    ReplyDelete
  6. जी हाँ !कीचड साफ़ तो करना ही होगा...एक शुरुआत तो करनी ही होगी..

    ReplyDelete
  7. bahu khubsurat sher hai. agar waqt mile to mere blog par bhi aayen. dhanyavaad.

    ReplyDelete
  8. sach kahtey hain..

    bhrashtachar--is ka unmulan karna hi hoga.aur har kisi ko khud apne se hi shuruaat karni hogi.

    ReplyDelete