Tuesday, February 21, 2012

रंगीली दुनिया बेरंग क्यों लगती है ?

रंगीली दुनिया कभी बेरंग क्यों लगती है ?
ज़िन्दगी इतनी छोटी है ,फ़िर लम्बी क्यों लगती है ?
इंसान दयालु से हैवान कैसे बन जाता है ?
कोई क्यों किसी को छोड़ कर चला जाता है ?
.....अंत में सब शून्य ही क्यों दीखता है ?

10 comments:

  1. शून्य ही तो आरम्भ है... जीवन के हर रंग का अपना महत्त्व है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. sandhya ji........har rang ka apna mahtw hai aur..black and white ke to kya kahne...

      Delete
  2. In mese kisee bhee sawal ka jawaab nahee milta!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ji kshama ji....ye sawal anutarit hai...

      Delete
  3. प्रश्न गंभीर हैं लेकिन जवाब किसके पास है...

    नीरज

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks ....ekdam sahi kaha aapne iska jawab hamaare paas nahi ham sirf ...awlokan kar sakte hai...

      Delete
  4. सब कुछ शून्य से उत्पन्न हुआ है और अंत में शून्य में ही विलीन होना है तो सब कुछ शून्य दिखेगा ही !

    अच्छी पंक्तियां।

    ReplyDelete
    Replies
    1. thanks Verma ji....shuny me vilin ho hi jana hai fir bhi ham sab bhaagte rahte hai....

      Delete
  5. विचारणीय , पर जीवन का फलसफा तो यही है.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. bilkul sahi kaha aapne...jiwan ka falsafaan to yahi hai...

      Delete