Monday, April 6, 2009

स्वेत श्याम का आनंद

स्वेत श्याम का अपना महत्व है । अपना आनंद है । उसे भी पसंद करो । रंगीन के आगोश में आकर उसे भूल जाओ ...यह न्याय नही है । वहां तुम्हे सादगी मिलेगी । तुम्हारी यादों को ताजा करेगी । तब तुम अपनी जड़ों से जुड़ पाओगे ।

7 comments:

  1. स्वागत ब्लॉग परिवार में.

    ReplyDelete
  2. sirf chand panktiyon mein kaafee kuchh keh diya aapne aandaaj pasand aayaa, aage prateekshaa rahegee, likhte rahein. swaagat hai.

    ReplyDelete
  3. लिखना उत्तम धन
    करदे मन प्रसन्न
    तो आप यूँ ही लिखते रहिये
    चिठ्ठा जगत में स्वागत है आपका

    ReplyDelete
  4. सुंदर अति सुंदर लिखते रहिये .......
    आपकी अगली पोस्ट का इंतजार रहेगा
    htt:\\ paharibaba.blogspost.comm

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete