Monday, October 10, 2011

जुल्फों की छांव

जुल्फों की छांव से 
मनमोहक 
पर्वत ,पहाड़ 
नदी ,झरने 
बाग़ बगीचों 
की छाँव है !
जहाँ साफ़ 
हवा तो आती है 
यहाँ तो सिर्फ 
और सिर्फ 
दर्द की हवा चलती है !

6 comments:

  1. बहुत अच्छी भावपूर्ण रचना..बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  2. NIRAJ JI AUR RASHMI JI comment aur apna opinion share karne ke liye shukriya....

    ReplyDelete
  3. सच कहा ... पर इन जुल्फों की छाँव से बचना भी आसान नहीं ...

    ReplyDelete