Tuesday, September 1, 2009

क्यों ?

रंगीली दुनिया कभी बेरंग क्यों लगती है ?
ज़िन्दगी इतनी छोटी है ,फ़िर लम्बी क्यों लगती है ?
इंसान दयालु से हैवान कैसे बन जाता है ?
कोई क्यों किसी को छोड़ कर चला जाता है ?
.....अंत में सब शून्य ही क्यों दीखता है ?

7 comments:

  1. शून्य से शुरू हो जीवन शून्य में मिल जाता है ..अनित्य से नित्य की ओर चलने वाला ये सफ़र होता है ..
    जीवन तो इत्तेफाक़न मिलता है...मृत्यु अटल होता है...

    ReplyDelete
  2. kyun ka jwab to nahi hai...par hai sab sunaye hi...achhi post par bahut der baad likha aapne...

    ReplyDelete
  3. YE TO JEVAN KI NIYATI HAI ... SHUNY SE SHURUAAT HOTI AI AUR SHUNY PAR HI KHATM HOTI HAI .... ACHHA LIKHA HAI ...

    ReplyDelete
  4. वाह क्या बात है! बहुत बढ़िया लगा! बिल्कुल सच्चाई का बयान किया है आपने!

    ReplyDelete
  5. Phir ek baar aapka likha padhne chalee ayee...

    ReplyDelete