Thursday, May 26, 2011

.मै वह अन्धकार बन गया हूँ ...........

कहने को तो ..... नीला आसमान मेरे चारो तरफ़ लहरा रहा है । पर मेरे लिए एक मुठ्ठी भर भी नही बचा ।
चाहत तो एक मुठ्ठी भर आसमाँ की ही थी । वह भी मुअस्सर नही ।
सूरज की किरणे मुझ पर भी वैसे ही पड़ती है , जैसे दूसरो पर गिरती है । मुझमे गर्मी पैदा करने की
ताकत उसमे नही ।
कौन जानता ...मै वह अन्धकार बन गया हूँ , जिस पर उजाले का कोई असर नही ।

3 comments:

  1. कभी-कभी जिंदगी में ऐसी स्थिति भी आती है .....

    ..........भावपूर्ण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. Khoobsoorat magar gamgeen rachana! Zindagee me aise mauqe aahee jate hain jab sab kuchh bemaanee lagta hai...

    ReplyDelete